Essay On Our National Bird Peacock In Hindi

भारतीय मोर या नीला मोर(पावो क्रिस्टेटस)दक्षिण एशिया के देशी तीतर परिवार का एक बड़ा और चमकीले रंग का पक्षी है, दुनिया के अन्य भागों में यह अर्द्ध-जंगली के रूप में परिचित है। नर, मोर, मुख्य रूप से नीले रंग के होते हैं साथ ही इनके पंख पर चपटे चम्मच की तरह नीले रंग की आकृति जिस पर रंगीन आंखों की तरह चित्ती बनी होती है, पूँछ की जगह पंख एक शिखा की तरह ऊपर की ओर उठी होती है और लंबी रेल की तरह एक पंख दूसरे पंख से जुड़े होने की वजह से यह अच्छी तरह से जाने जाते हैं। सख्त और लम्बे पंख ऊपर की ओर उठे हुए पंख प्रेमालाप के दौरान पंखे की तरह फैल जाते हैं। मादा में इस पूँछ की पंक्ति का अभाव होता है, इनकी गर्दन हरे रंग की और पक्षति हल्की भूरी होती है। यह मुख्य रूप से खुले जंगल या खेतों में पाए जाते हैं जहां उन्हें चारे के लिए बेरीज, अनाज मिल जाता है लेकिन यह सांपों, छिपकलियों और चूहे एवं गिलहरी वगैरह को भी खाते हैं। वन क्षेत्रों में अपनी तेज आवाज के कारण यह आसानी से पता लगा लिए जाते हैं और अक्सर एक शेर की तरह एक शिकारी को अपनी उपस्थिति का संकेत भी देते हैं। इन्हें चारा जमीन पर ही मिल जाता है, यह छोटे समूहों में चलते हैं और आमतौर पर जंगल पैर पर चलते है और उड़ान से बचने की कोशिश करते हैं। यह लंबे पेड़ों पर बसेरा बनाते हैं। हालांकि यह भारत का राष्ट्रीय पक्षी है।

वर्गीकरण और नामकरण[संपादित करें]

भारतीय मोर उन कई मूल प्रजातियों में से एक है जिसका वर्णन 18 वीं सदी में लिनिअस द्वारा किए गए काम सिस्टम नेचर में था और यह अभी तक अपने मूल नाम पावो क्रिस्टेटस से जाना जाता है।[2]लैटिन जीनस नाम पावो और ऐंगलो-सैक्शन पवे (जिसमें से "मयूर" शब्द व्युत्पन्न हुआ है) उनके मूल से ही इसके प्रतिध्वनित होने का विश्वास है और सामान्यतः पक्षी की आवाज के आधार पर होता है। प्रजाति का नाम क्रिस्टेटस इसकी शिखा को संदर्भित करता है।[3]

प्रारंभिक रूप से लिखित अंग्रेजी शब्द में इसका उपयोग 1300 प्रकार से हुआ है और इसकी वर्तनी में पेकोक, पेकोक, पेकोक्क, पाकोच्के, पोकोक्क, प्य्च्कोक्क, पौकोक्क, पोकॉक, पोकोक, पोकोक्के और पूकोक भिन्न प्रकार के शब्द शामिल हैं। वर्तमान वर्तनी 17 वीं सदी के अन्त में तय किया गया था। चौसर (1343-1400) शब्द का इस्तेमाल एक दंभी और आडंबरपूर्ण व्यक्ति की उपमा "प्राउड अ पेकोक" त्रोइलुस एंड क्रिसेय्डे (बुक I, लाइन 210)। [4]

मोर के लिए यूनानी शब्द था टओस और जो "तवूस" से संबंधित था (जैसे कि तख्त-ए-तावोस प्रसिद्ध मयूर मुकुट के लिए)। [5] हिब्रू शब्द तुकी (बहुवचन तुक्कियिम) तमिल शब्द तेख से आया है लेकिन कभी कभी मिस्र के शब्द तेख से भी संकेत हुए हैं।[6][7]

विवरण[संपादित करें]

नर, एक मोर के नाम से जाना जाता है, एक बड़ा पक्षी जिसकी लंबाई चोंच से लेकर पूंछ तक 100 के 115 सेमी (40-46 इंच) होती है और अन्त में एक बड़ा पंख 195 से 225 सेमी (78 से 90 इंच) और वजन 4-6 किलो (8.8-13.2 एलबीएस) होता है। मादा या मयूरी, कुछ छोटे लंबाई में करीब 95 सेम (38 इंच) के आसपास और 2.75-4 किलोग्राम (6-8.8 एलबीएस) वजन के होते हैं। उनका आकार, रंग और शिखा का आकार उन्हें अपने देशी वितरण सीमा के भीतर अचूक पहचान देती है। नर का मुकुट धातु सदृश नीला और सिर के पंख घुंघराले एवं छोटे होते हैं। सिर पर पंखे के आकार का शिखर गहरे काले तीर की तरह और पंख पर लाल, हरे रंग का जाल बना होता है। आंख के ऊपर सफेद धारी और आँख के नीचे अर्धचन्द्राकार सफेद पैच पूरी तरह से सफेद चमड़ी से बना होता है। सिर के पक्षों पर इंद्रधनुषी नीले हरे पंख होते है। पीछे काले और तांबे के निशान के साथ शल्की पीतल -हरा पंख होता है। स्कंधास्थि और पंखों का रंग बादामी और काला, शुरू में भूरा और बाद में काला होता है। पूंछ गहरे भूरे रंग का और ऊपर लम्बी पूंछ का "रेल" (200 से अधिक पंख, वास्तविक पूंछ पंख केवल 20) होता है और लगभग सभी पंखों पर एक विस्तृत आंख होती है। बाहरी पंख पर कुछ कम आंखें और अंत में इसका रंग काला और आकार अर्द्धचन्द्राकार होता है। नीचे का भाग गहरा चमकदार और पूंछ के नीचे हरे रंग की लकीर खींची होती है। जांघें भूरे रंग की होती हैं। नर के पैर की अंगुली और पिछले भाग के ऊपर पैर गांठ होती है।[8][9]

वयस्क मोरनी के सिर पर मिश्रित-भूरे रंग का शिखर और नर का शिखर शाहबलूत हरे रंग के साथ होता है। ऊपरी भाग भूरा साथ में हल्का रंगबिरंगा होता है। प्राथमिक, माध्यमिक और पूंछ गहरे भूरे रंग के होते हैं। गर्दन धातु सदृश हरा और स्तन पंख गहरे भूरे रंग के साथ हरे रंग का होता है। निचले के बाकी हिस्से सफेद होते हैं।[8] युवा कोमल गहरे भूरे रंग का साथ ही गर्दन के पीछे का भाग पीला जिस पर आँखें बनी होती हैं।[10] युवा नर मादाओं की तरह की तरह लगते हैं लेकिन पंखों का रंग बादामी होता है।[10][11]

पक्षियों की आम पक्षियों आवाज बहुत तेज पिया-ओ या मिया-ओ होती है। मानसून के मौसम से पहले इनकी पुकारने की बारंबारता बढ़ जाती है और अधिक तेज शोर से परेशान होकर यह अलार्म की तरह आवाज निकालने लगते हैं। वन क्षेत्रों में, अपनी तेज आवाज के कारण यह अक्सर एक शेर की तरह एक शिकारी को अपनी उपस्थिति का संकेत भी देते हैं।[8][11] यह अन्य तरह की तेज आवाजें भी करते हैं जैसे कि कां-कां या बहुत तेज कॉक-कॉक .[11][12]

भारतीय मोर में कई प्रकार के रंग परिवर्तन होते हैं। जंगलों में यह बहुत मुश्किल से ही होता है, लेकिन चयनात्मक प्रजनन की अधीनता में यह आम होता है। शुरू में काले कंधों या जापान्ड उत्परिवर्तन पी.सी. निग्रिपेंनिस{/{/0} एक उपप्रजाति थी और डारविन के समय के दौरान एक विषय था। इस उत्परिवर्तन में नर काले पंखों के साथ कालि रुजा होते हैं जबकि मादा पर काले और भूरे रंग की आकृति श्वेत कोशिकाओं के साथ होते हैं।[10] लेकिन यह केवल जनसंख्या के भीतर आनुवंशिक भिन्नता का मामला है। अन्य प्रकार में शामिल है विचित्र और सफेद प्रकार जो विशिष्ट लोसी के ऐलेलिक के परिवर्तन के कारण है।[13][14]

वितरण और आवास[संपादित करें]

भारतीय मोर भारतीय उपमहाद्वीप का प्रजनक निवासी है और यह श्रीलंका शुष्क तराई क्षेत्रों में पाया जाता है। दक्षिण एशिया में, यह 1800 मीटर की ऊंचाई के नीचे और कुछ दुर्लभ परिस्थिति में 2000 मीटर की ऊंचाई पर पाया जाता है।[15] यह नम और सूखी पर्णपाती जंगलों में पाया जाता है, लेकिन यह खेती क्षेत्रों में और मानव बस्तियों के आसपास रहने के अनुकूलित हैं और आमतौर पर वहां पाए जाते हैं जहां पानी उपलब्ध है। उत्तरी भारत के कई भागों में, जहां वे धार्मिक भावना द्वारा संरक्षित हैं और चारे के लिए गांवों और नगरों पर निर्भर करते हैं। कुछ लोगों ने सुझाव दिया है कि मोर, अलेक्जेंडर द ग्रेट द्वारा यूरोप में पेश किया गया था,[16] जबकि अन्य सुझाव है कि पक्षी 450 ईसा पूर्व एथेंस पहुँचे थे और इससे पहले से भी वहां हो सकते हैं।[17] बाद में यह दुनिया के कई अन्य भागों में परिचित किए गए है और कुछ क्षेत्रों में यह जंगली जीव हैं।[11]

व्यवहार और पारिस्थितिकी[संपादित करें]

मोर अपने नर के असाधारण पंख प्रदर्शन पंख के कारण सर्वश्रेष्ठ तरीके से जाने जाते हैं, जो वास्तव में उनके पीछे की तरफ बढ़ते हैं और जिसे पूंछ समझ लिया जाता है। अत्यधिक लम्बी पूंछ की "रेल" वास्तविकता में ऊपरी अप्रकट भाग है। पूंछ भूरे रंग की और मोरनी की पूंछ छोटी होती है। पंखों की सूक्ष्म संरचना के परिणामस्वरूप रंगों की अद्भुत घटना परिलक्षित होती है।[18] नर की लंबी रेल पंख (और टार्सल स्पर) जीवन के दूसरे वर्ष के बाद ही विकसित होती हैं। पूरी तरह से विकसित पंख चार साल से अधिक उम्र के पक्षियों में पाए जाते हैं। उत्तरी भारत में, प्रत्येक के लिए यह फ़रवरी महीने के शुरू में विकसित होता है और अगस्त के अंत में गिर जाता है।[19] उड़ान भरने वाले पंख साल भर में रहते हैं।[20]

माना जाता है कि अलंकृत पंखों का प्रदर्शन यह मादाओं से प्रेमालाप और यौन चयन के लिए अपने पंखों को उठा कर उन्हें आकर्षित करने के लिए करते हैं कई अध्ययनों से पता चला है कि पंखों की गुणवत्ता पर ही मादा नर की हालत का ईमानदार संकेत देखकर नर का चुनाव करती हैं। हाल के अध्ययनों से पता चला है कि मादा द्वारा नर के चुनाव में अन्य संकेत भी शामिल हो सकते हैं।[21][22]

छोटे समूहों में मादाएं चारा चुगती हैं, जिसे मस्टर के रूप में जाना जाता है, आम तौर पर इनमें एक नर और 3-5 मादाएं होती हैं। प्रजनन के मौसम के बाद, झुंड में केवल मादा और युवा ही रहते हैं। यह सुबह खुले में पाए जाते हैं और दिन की गर्मी के दौरान छायादार स्थान में रहते हैं। गोधूलि बेला में वे धूल से स्नान के शौकीन होते हैं, पूरी झुंड एक पंक्ति में एक पसंदीदा जलस्थल पर पानी पीने जाते हैं। आमतौर पर जब वे परेशान होते हैं, भागते हैं और बहुत कम उड़ान भरते हैं।[11]

मोर प्रजनन के मौसम में विशेष रूप से जोर से आवाज निकालते हैं। रात को जब वे पड़ोसी पक्षियों को आवाज निकालते हुए सुनते हैं तो चिंतित होकर उसी श्रृंखला में आवाज निकालने लगते हैं। मोर की सामान्यतः छह प्रकार के अलार्म की आवाज के अलावा करीब सात किस्म की आवाज अलग अलग लिंगों द्वारा निकाली गई आवाज को पहचाना जा चुका है।[23]

मोर ऊँचे पेड़ों पर अपने बसेरे से समूहों में बांग भरते हैं लेकिन कभी कभी चट्टानों, भवनों या खंभों का उपयोग करते हैं। गिर के जंगल में, यह नदी के किनारे किसी ऊंची पेड़ को चुनते हैं।[24][25] गोधूलि बेला में अक्सर पक्षी अपने पेड़ों पर बने बसेरे पर से आवाज निकालते हैं।[26] बसेरे पर एकत्रित बांग भरने के कारण, कई जनसंख्या इन स्थलों पर अध्ययन करते हैं। जनसंख्या की संरचना की जानकारी ठीक प्रकार से नहीं है, उत्तरी भारत (जोधपुर) के एक अध्ययन के अनुसार, नरों की संख्या 170-210 प्रति 100 मादा है लेकिन दक्षिणी भारत (इंजर) में बसेरा स्थल पर शाम की गिनती के अनुसार 47 नरों के अनुपात में 100 मादाएं पाई गईं। [12]

प्रजनन[संपादित करें]

मोर बहुविवाही होते हैं और प्रजनन के मौसम फैला हुआ होता है लेकिन वर्षा पर निर्भर करता है। कई नर झील के किनारे एकत्र होते हैं औरअक्सर निकट संबंधी होते हैं।[27] झील पर नर अपना एक छोटा सा साम्राज्य बनाते हैं और मादाओं को वहां भ्रमण करने देते हैं और हरम को सुरक्षित करने का प्रयास नहीं करते हैं। मादा किसी विशिष्ट नर के साथ नहीं दिखाई देती हैं।[28] नर अपने पंखों को उठाकर प्रेमालाप के लिए उन्हें आमंत्रित करते हैं। पंख आधे खुले होते हैं और अधोमुख अवस्था में ही जोर से हिलाकर समय समय पर ध्वनि उत्पन्न करते हैं। नर मादा के चेहरे के सामने अकड़ता और कूदता है एवं कभी कभी चारों ओर घूमता है उसके बाद अपने पंखों का प्रदर्शन करता है।[11] नर भोजन दिखाकर भी मादा को प्रेमालाप के लिए आमंत्रित करते हैं।[29] नर मादा के न होने पर भी यह प्रदर्शन कर सकते हैं। जब एक नर प्रदर्शन करता है, मादा कोई आकर्षण प्रकट नहीं करती और दाना चुगने का काम जारी रखती हैं।[12] दक्षिण भारत में अप्रैल-मई में, श्रीलंका में जनवरी-मार्च में और उत्तरी भारत में जून चरम मौसम है। घोंसले का आकार उथला और उसके निचले भाग में परिमार्जित पत्तियां, डालियां और अन्य मलबे होते हैं। घोंसले कभी कभी इमारतों पर भी होते हैं[30] और यह भी दर्ज किया गया है कि किसी त्यागे हुए प्लेटफार्मों और भारतीय सफेद गिद्ध द्वारा छोड़े गए घोंसलों का प्रयोग करते हैं घोंसलों में 4-8 हलके पीले रंग के अंडे होते हैं जिसकी देखभाल केवल मादा करती हैं। 28 दिनों के बाद अंडे से बच्चे बाहर आते हैं। चूजे अंडे सेने के बाद बाहर आते ही माँ के पीछे पीछे घूमने लगते हैं।[8] उनके युवा कभी कभी माताओं की पीठ पर चढ़ाई करते हैं और मादा उन्हें पेड़ पर सुरक्षित पहुंचा देती है।[31] कभी-कभी असामान्य सूचना भी दी गई है कि नर भी अंडे की देखभाल कर रहें हैं।[11][32]

आहार[संपादित करें]

मोर मांसभक्षी होते है और बीज, कीड़े, फल, छोटे स्तनपायी और सरीसृप खाते हैं। वे छोटे सांपों को खाते हैं लेकिन बड़े सांपों से दूर रहते हैं।[33] गुजरात के गिर वन में, उनके भोजन का बड़ा प्रतिशत पेड़ों पर से गिरा हुआ फल ज़िज़िफस होता है।[34] खेती के क्षेत्रों के आसपास, धान, मूंगफली, टमाटर मिर्च और केले जैसे फसलों का मोर व्यापक रूप से खाते हैं।[12] मानव बस्तियों के आसपास, यह फेकें गए भोजन और यहां तक कि मानव मलमूत्र पर निर्भर करते हैं।[11]

मृत्युदर कारक[संपादित करें]

वयस्क मोर आमतौर पर शिकारियों से बचने के लिए उड़ कर पेड़ पर बैठ जाते हैं। तेंदुए उनपर घात लगाए रहते हैं और गिर के जंगल में मोर आसानी से उनके शिकार बन जाते हैं।[25] समूहों में चुगने के कारण यह अधिक सुरक्षित होते हैं क्योंकि शिकारियों पर कई आँखें टिकी होती हैं।[35] कभी कभी वे बड़े पक्षियों जैसे ईगल हॉक अस्थायी और रॉक ईगल द्वारा शिकार कर लिए जाते हैं।[36][37] य़ुवा के शिकार होने का खतरा कम रहता है। मानव बस्तियों के पास रहने वाले वयस्क मोरों का शिकार कभी कभी घरेलू कुत्ते द्वारा किया जाता है, (दक्षिणी तमिलनाडु) में कहावत है कि मोर के तेल लोक उपचार होता है।[12]

कैद में, पक्षियों की उम्र 23 साल है लेकिन यह अनुमान है कि वे जंगलों में 15 साल ही जीवित रहते हैं।[38]

संरक्षण और स्थिति[संपादित करें]

भारतीय मोर व्यापक रूप से दक्षिण एशिया के जंगलों में पाए जाते हैं और भारत के कई क्षेत्रों में सांस्कृतिक और कानून दोनों के द्वारा संरक्षित हैं। रूढ़िवादी अनुमान है कि इनकी जनसंख्या के 100000 से अधिक है।[39] मांस के लिए अवैध शिकार तथापि जारी है और भारत के कुछ भागों में गिरावट नोट किया गया है।[40]

नर ग्रीन मोर, पावो मुतीकुस और मोरनी की सन्तानें हाईब्रिड होती हैं, जिसे कैलिफोर्निया की श्रीमती कीथ स्पाल्डिंग के नाम पर स्पाल्डिंग पुकारा जाता है।[41] यहां एक समस्या हो सकती है अगर जंगलों में अज्ञात पक्षियों से वंशावली जारी रहे तो हाईब्रिडों की संख्या कम होने लगेगी (देखें हल्दाने'स रूल और आउट ब्रिडिंग डीप्रेशन

बीज कीटनाशक, मांस के कारण अवैध शिकार, पंख और आकस्मिक विषाक्तता के कारण मोर पक्षियों की जान को खतरा है।[42] इनके द्वारा गिराए पंखों की पहचान कर उसे संग्रह करने की अनुमति भारतीय कानून देता है।[43]

भारत के कुछ हिस्सों में यह पक्षी उपद्रव करते हैं, कई जगह ये फसलों और कृषि को क्षति पंहुचाते हैं।[11] बगीचों और घरों में भी इनके कारण समस्याएं आती है जहाँ वे पौधों, अपनी छवि को दर्पण में देखकर तोड़ देना, चोंच से कारों को खरोंच देना या उन पर गोबर छोड़ देते है। कई शहरों में, जंगली मोर प्रबंधन कार्यक्रम शुरू किया गया है। नागरिकों को शिक्षित किया जाना चाहिए कि पक्षियों के उपचार में शामिल हों और उन्हें नुकसान करने से कैसे रोकें.[44][45][46]

संस्कृति में[संपादित करें]

कई संस्कृतियों में मोर को प्रमुख रूप से निरूपित किया गया है, अनेक प्रतिष्ठिानों में इसे आईकन के रूप में प्रयोग किया गया है, 1963 में इसे भारत का राष्ट्रीय पक्षी घोषित किया गया।[11] मोर, को संस्कृत में मयूर कहते हैं, भारत में अक्सर इसे परंपराओं, मंदिर में चित्रित कला, पुराण, काव्य, लोक संगीत में जगह मिली है।[47] कई हिंदू देवता पक्षी के साथ जुड़े हैं, कृष्णा के सिर पर मोर का पंख बंधा रहता, जबकि यह शिव का सहयोगी पक्षी है जिसे गॉड ऑफ वॉर कार्तिकेय (स्कंद या मुरुगन के रूप में) भी जाने जाते हैं। बौद्ध दर्शन में, मोर ज्ञान का प्रतिनिधित्व करता है।[48] मोर पंख का प्रयोग कई रस्में और अलंकरण में किया जाता है। मोर रूपांकनों वस्त्रों, सिक्कों, पुराने और भारतीय मंदिर वास्तुकला और उपयोगी और कला के कई आधुनिक मदों में इसका प्रयोग व्यापक रूप से होता है।[17] ग्रीक पौराणिक कथाओं में मोर का जिक्र मूल अर्गुस और जूनो की कहानियों में है।[41] सामान्यतः कुर्द धर्म येज़ीदी के मेलेक टॉस के मुख्य आंकड़े में मोर को सबसे अधिक रूप से दिखाया गया है।[49][50] मोर रूपांकनों को अमेरिकी एनबीसी टेलीविजन नेटवर्क और श्रीलंका के एयरलाइंस में व्यापक रूप से इस्तेमाल किया गया है।

इन पक्षियों को पिंजरे में अक्सर और बड़े बगीचों और गहनों के रूप में रखा गया है। बाइबिल में एक संदर्भ में राजा सुलैमान (I किंग, चैप्टर X 22 और 23) के स्वामित्व में मोर का उल्लेख है। मध्यकालीन समय में, यूरोप में शूरवीर "मयूर की शपथ" लिया करते थे और अपने हेलमेट को इसके पंखों से सजाते थे। पंख को विजयी योद्धाओं के साथ दफन किया जाता था[51] और इस पक्षी के मांस से सांप के जहर और अन्य कई विकृतियों का इलाज किया जाता था।[51]आयुर्वेद में इसके कई उपयोग को प्रलेखित किया गया है। कहा जाता है कि मोर के रहने से क्षेत्र सांपों से मुक्त रहता है।[52]

मोर और मोरनी के रंग में अंतर की पहेली के विरोधाभास पर कई विचारक सोचने लगे थे। चार्ल्स डार्विन ने आसा ग्रे को लिखा है कि " जब भी मैं मोर के पंखों को टकटकी लगा कर देखता हूं, यह मुझे बीमार बनाता है !" वह असाधारण पूंछ के एक अनुकूली लाभ को देखने में असफल रहे थे जिसे वह केवल एक भार समझते थे। डार्विन को 'यौन चयन "का एक दूसरा सिद्धांत विकसित करने के लिए समस्या को सुलझाने की कोशिश की. 1907 में अमेरिकी कलाकार अब्बोत्त हन्देरसों थायेर ने कल्पना से अपने ही में छलावरण से पंखों पर बने आंखो के आकार को एक चित्र में दर्शाया.[53] 1970 में यह स्पष्ट विरोधाभास ज़हावी अमोत्ज़ के सिद्धांत बाधा और हल आधारित ईमानदार संकेतन इसके विकास पर लिखा गया, हालांकि यह हो सकता है कि सीधे वास्तविक तंत्र - हार्मोन के कारण शायद पंखों का विकास हुआ हो और जो प्रतिरक्षा प्रणाली को दबाता हो.[54][55]

1850 के दशक में एंग्लो इंडियन समझते थे कि सुबह मोर देखने का मतलब है दिनभर सज्जनों और देवियों का दौरा चलता रहेगा. 1890 में, ऑस्ट्रेलिया में "पीकॉकिंग" का अर्थ था जमीन का सबसे अच्छा भाग ("पीकिंग द आईज़") खरीदा जाएगा.[56] अंग्रेजी शब्द में "मोर" का संबध ऐसे व्यक्ति से किया जाता था जो अपने कपड़ों की ओर ध्यान दिया करता था और बहुत दंभी था।[57]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. ↑"Pavo cristatus". IUCN Red List of Threatened Species. Version 2009.2. International Union for Conservation of Nature. 2009. http://www.iucnredlist.org/apps/redlist/details/141357. अभिगमन तिथि: 2010-02-15. 
  2. ↑(साँचा:ISO 639 name la)Linnaeus, Carl (1758). Systema naturae per regna tria naturae, secundum classes, ordines, genera, species, cum characteribus, differentiis, synonymis, locis. Tomus I. Editio decima, reformata.. Holmiae. (Laurentii Salvii).. 
  3. ↑Johnsgard, P.A. (1999). The Pheasants of the World: Biology and Natural History. Washington, DC: Smithsonian Institution Press. प॰ 374. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 1-56098-839-8. 
  4. ↑Weekley, E (1921). An etymological dictionary of modern English. John Murray, London. http://www.archive.org/stream/etymologicaldict00weekuoft#page/528/mode/1up/. 
  5. ↑Lal, Krishna (2007). Peacock in Indian art, thought and literature. Abhinav Publications. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 8170174295. 
  6. ↑Burton, R F (1884). The book of the sword. Chatto and Windus, London. प॰ 155. http://www.archive.org/stream/booksword00unkngoog#page/n197/mode/1up/. 
  7. ↑Hehn, Victor; James P. Mallory (1976). Cultivated plants and domesticated animals in their migration from Asia to Europe: historico-linguistic studies Volume 7 of Amsterdam studies in the theory and history of linguistic science Amsterdam studies in the theory and history of linguistic science. Series I, Amsterdam classics in linguistics,1800-1925. John Benjamins Publishing Company. प॰ 263. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9027208719. 
  8. Whistler, Hugh (1949). Popular handbook of Indian birds (4 सं॰). Gurney and Jackson, London. पृ॰ 401–410. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 1406745766. http://www.archive.org/stream/popularhandbooko033226mbp#page/n458/mode/1up/. 
  9. ↑Blanford, WT (1898). Fauna of British India. Birds. 4. Taylor and Francis, London. पृ॰ 681–70. http://www.archive.org/stream/birdsindia04oaterich#page/68/mode/1up. 
  10. Baker, ECS (1928). Fauna of British India. Birds. Volume 5 (2 सं॰). Taylor and Francis, London. पृ॰ 282–284. http://www.archive.org/stream/BakerFbiBirds5/BakerFBI5#page/n304/mode/1up/. 
  11. Ali, S & S D Ripley (1980). Handbook of the birds of India and Pakistan. 2 (2 सं॰). Oxford University Press. पृ॰ 123–126. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0195620631. 
  12. Johnsingh,AJT; Murali,S (1978). "The ecology and behaviour of the Indian Peafowl (Pavo cristatus) Linn. of Injar". J. Bombay Nat. Hist. Soc.75 (4): 1069–1079. 
  13. ↑Somes, RG Jr. and R. E. Burger (1991). "Plumage Color Inheritance of the Indian Blue Peafowl (Pavo Cristatus): Blue, Black-Shouldered, Cameo, and Oaten". Journal of Heredity82: 64–68. doi:10.1093/jhered/82.1.64 (inactive 2010-06-02). 
  14. ↑Somes, RG Jr. and R. E. Burger. "Inheritance of the White and Pied Plumage Color Patterns in the Indian Peafowl (Pavo cristatus)". J. Hered.84: 57–62. 
  15. ↑Dodsworth, PTL (1912). "Occurrence of the Common Peafowl Pavo cristatus, Linnaeus in the neighbourhood of Simla, N.W. Himalayas". J. Bombay Nat. Hist. Soc.21 (3): 1082–1083. 
  16. ↑Whitman, CH (1898). "The birds of Old English literature". The journal of Germanic Philology2 (2): 40. http://www.archive.org/stream/cu31924031439544#page/n43/mode/1up/. 
  17. Nair, P. Thankappan (1974). "The Peacock Cult in Asia". Asian Folklore Studies33 (2): 93–170. doi:10.2307/1177550. JSTOR 1177550. http://www.nanzan-u.ac.jp/SHUBUNKEN/publications/afs/pdf/a272.pdf. 
  18. ↑Blau, S.K. (2004). "Light as a Feather: Structural Elements Give Peacock Plumes Their Color". Physics Today57 (1): 18–20. doi:10.1063/1.1650059. http://www.aip.org/pt/vol-57/iss-1/p18.html. 
  19. ↑Sharma, IK (1974). "Ecological Studies of the Plumes of the Peacock (Pavo cristatus')". The Condor 76 (3): 344–346. doi:10.2307/1366352. JSTOR 1366352. http://elibrary.unm.edu/sora/Condor/files/issues/v076n03/p0344-p0346.pdf. 
  20. ↑Marien, Daniel (1951). "Notes on some pheasants from southwestern Asia, with remarks on molt". American Museum novitates1518: 1–25. http://hdl.handle.net/2246/3909. 
  21. ↑Loyau, A.; Saint Jalme, M., and Cagniant, C. (2005). "Multiple sexual advertisements honestly reflect health status in peacocks (Pavo cristatus)". Behavioral Ecology and Sociobiology58 (6): 552–557. doi:10.1007/s00265-005-0958-y. 
  22. ↑Takahashi, M.; Arita, H., Hiraiwa-Hasegawa, M., Hasegawa, T. (2008). "Peahens do not prefer peacocks with more elaborate trains". Animal Behaviour75 (4): 1209–1219. doi:10.1016/j.anbehav.2007.10.004. 
  23. ↑Takahashi M & T Hasegawa (2008). "Seasonal and diurnal use of eight different call types by Indian peafowl (Pavo cristatus)". Journal of Ethology26 (3): 375–381. doi:10.1007/s10164-007-0078-4. 
  24. ↑Trivedi,Pranav; Johnsingh,AJT (1996). "Roost selection by Indian Peafowl (Pavo cristatus) in Gir Forest, भारत". J. Bombay Nat. Hist. Soc.93 (1): 25–29. 
  25. Parasharya,BM; Mukherjee, Aeshita (1999). "Roosting behaviour of Indian Peafowl Pavo cristatus". J. Bombay Nat. Hist. Soc.96 (3): 471–472. 
  26. ↑Navaneethakannan,K (1984). "Activity patterns in a colony of Peafowls (Pavo cristatus) in nature". J. Bombay Nat. Hist. Soc.81 (2): 387–393. 
  27. ↑Petrie M, Krupa A, Burke T. (1999). "Peacocks lek with relatives even in the absence of social and environmental cues". Nature401: 155–157. doi:10.1038/43651. http://www.nbb.cornell.edu/neurobio/BioNB427/READINGS/Sherman1999.pdf. 
  28. ↑Rands, M.R.M.; M.W. Ridley, A.D. Lelliott (1984-08). "The social organization of feral peafowl". Animal Behaviour32 (3): 830–835. doi:10.1016/S0003-3472(84)80159-1. 
  29. ↑Stokes, AW & H. Warrington Williams (1971). "Courtship Feeding in Gallinaceous Birds". The Auk88 (3): 543–559. http://elibrary.unm.edu/sora/Auk/v088n03/p0543-p0559.pdf. 
  30. ↑Vyas,R (1994). "Unusual breeding site of Indian Peafowl". Newsletter for Birdwatchers34 (6): 139.. http://www.archive.org/stream/NLBW34_6#page/n21/mode/1up. 
  31. ↑Singh, H (1964). "Peahens flying up with young". Newsletter for Birdwatchers4 (1): 14. http://www.archive.org/stream/NLBW4#page/n14/mode/1up. 
  32. ↑Shivrajkumar,YS (1957). "An incubating Peacock (Pavo cristatus Linn.)". J. Bombay Nat. Hist. Soc.54 (2): 464. 
  33. ↑Johnsingh,AJT (1976). "Peacocks and cobra". J. Bombay Nat. Hist. Soc.73 (1): 214. 
  34. ↑Trivedi,Pranav; Johnsingh,AJT (1995). "Diet of Indian Peafowl Pavo cristatus Linn. in Gir Forest, Gujarat". J. Bombay Nat. Hist. Soc.92 (2): 262–263. 
  35. ↑Yasmin,Shahla; Yahya,HSA (2000). "Group size and vigilance in Indian Peafowl Pavo cristatus (Linn.), Family: Phasianidae". J. Bombay Nat. Hist. Soc.97 (3): 425–428. 
  36. ↑Dhanwatey, Amrut S (1986). "A Crested Hawk-Eagle Spizaetus cirrhatus (Gmelin) killing a Peafowl Pavo cristatus Linnaeus". J. Bombay Nat. Hist. Soc.83 (4): 202. 
  37. ↑Tehsin,Raza; Tehsin,Fatema (1990). "Indian Great Horned Owl Bubo bubo (Linn.) and Peafowl Pavo cristatus Linn". J. Bombay Nat. Hist. Soc.87 (2): 300. 
  38. ↑Flower, M.S.S. (1938). "The duration of life in animals - IV. Birds: special notes by orders and families". Proceedings of the Zoological Society of London: 195–235. 
  39. ↑Madge S & P McGowan (2002). Pheasant, partridges and grouse, including buttonquails, sandgrouse and allies. Christopher Helm, London. 
  40. ↑Ramesh, K. & P. McGowan (2009). "On the current status of Indian Peafowl Pavo cristatus (Aves: Galliformes: Phasianidae): keeping the common species common". Journal of Threatened Taxa1 (2): 106–108. http://threatenedtaxa.org/ZooPrintJournal/2009/February/o184526ii09106-108.pdf. 
  41. Jackson, CE (2006). Peacock. Reaktion Books, London. पृ॰ 10–11. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9781861892935. 
  42. ↑Alexander JP (1983). "Probable diazinon poisoning in peafowl: a clinical description". Vet Rec.113 (20): 470. 
  43. ↑Sahajpal, V., Goyal, S.P. (2008). "Identification of shed or plucked origin of Indian Peafowl (Pavo cristatus) tail feathers: Preliminary findings". Science and Justice48 (2): 76–78. doi:10.1016/j.scijus.2007.08.002. PMID 18700500. 
भारतीय मोर का सामान्य पंख का सिरा। ये पंख प्रणय निवेदन के समय खड़े हो जाते हैं।
एक लयूसिस्टिक सफेद मोर कि कई पार्क में चयनात्मक प्रजनन द्वारा जार्डिन देस प्लांटस, पेरिस में इस एक जैसे बनाए रखा है। इस उत्परिवर्तन आमतौर पर एक सूरजमुखी मनुष्य के लिए गलत है।
एक मोर की "ओसल्लाते" पूंछ कोवेर्ट्स
लम्बी पूंछ ऊपरी कोवेर्ट्स ऊपर मोर की "रेल" बना
भारतीय होडल पर इम्मातुरेस साथ हरियाणा, भारत के फरीदाबाद जिले में मोरनी
एक प्रदर्शित करने के पुरुष के पीछे देखने छोटी पूंछ पंख दिखा
अपने 'जंगल में मोर' (1907) में थायेर सुझाव दिया है कि अलंकृत पूंछ छलावरण के लिए एक सहायता था
मोर धूमधाम, गर्व और घमंड के साथ जुड़ा हुआ बन के रूप में दिखाया गया है में इस के "सर फलक मयूर" जे जे ग्रंद्विल्ले के काम पर आधारित कारटूनवाला
मुरुगन या स्कंद की प्रतिमा तिरुवोत्तियुर पर मंदिर से
जूनो और अर्गुस, रूबेंस द्वारा (1620 ग)

हमारा राष्ट्रीय पक्षी मोर है। मोर दिखने में बहुत सुन्दर होता है। उसके शरीर का हर एक अंग उसकी सुंदरता पर चार चाँद लगाता है।

उसका शरीर नीले रंग का होता है। और पंखों में ना जाने कितने रंग होते हैं। जैसे हरा नीला गुलाबी बैगनी।  उसके पंख बड़े -बड़े होते हैं। और जब मोर अपना पंख खोलता है तो वह और भी सुन्दर लगता है।

उसकी आँखे लम्बी और खूबसूरत होती हैं। यह कार्तिक भगवान का वाहन भी है।  यह कृष्ण भगवान का एक रूप भी है। जब मोर अपने पंख खोलता है तो वह एक अदभुत नजारा होता है।  हमारे देश में मोर रांची बिहार मथुरा वाराणसी और राजस्थान के इलाकों में ज्यादा संख्या में पाये जाते हैं। इनका शरीर बड़ा और भारी होता है।  जिसके कारण यह ज्यादा ऊंचाई तक उड़ नहीं पाते हैं।  यह दान बीज आदि खातें हैं।  कहा जाता है की यह सांप भी खाता है। मगर इनपे सांप के विष का कोई प्रभाव नहीं पड़ता है। यह बहुत शान से राजा की तरह चलता है। इनकी खुबिंया तो बहुत हैं जिनमे से कुछ नीचे लिखा हुआ है।

यह बारिश होने का अंदाजा लगा लेता है।  उसके तन का एक बहुत महत्वपूर्ण अंग जो की पंख है। हिन्दू संस्कृति में माना जाता है की इसके पंख घर में रखने से सुख शम्पत्ति का लाभ होता है।  लोग इसके पंख को किताब में निशान के लिए प्रयोग करते हैं।

0 thoughts on “Essay On Our National Bird Peacock In Hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *